Home Himachal Pradesh अब रोबोट निकालेंगे गायों का दूध, ऊना में खुलेगा हाईटेक डेयरी फार्म-now...

अब रोबोट निकालेंगे गायों का दूध, ऊना में खुलेगा हाईटेक डेयरी फार्म-now robots will extract milk from cows hi-tech dairy farm will open in Una hrrm– News18 Hindi

54
0

ऊना. आधुनिक समय में जहां हर चीज हाईटेक हो रही है. वहीं अब पशुओं के डेयरी फार्म (Dairy Farm) भी हाईटेक तकनीक से लैस होने वाले हैं. आधुनिक तकनीकों और उपकरणों से लैस एक हाईटेक डेयरी फार्म हिमाचल के ऊना जिला के बसाल गांव में खुलने जा रहा है. आधुनिक समय के इस डेयरी फार्म में पशुओं को घास डालने से लेकर गोबर हटाने यहां तक कि उनका दूध तक निकालने का काम अब इंसान नहीं बल्कि रोबोट (Robot) करने वाले हैं.

करीब 44 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले इस डेयरी फार्म के लिए केंद्र सरकार द्वारा 38 करोड़ रुपए की राशि हिमाचल प्रदेश को जारी कर दी हैं. हाईटेक तकनीकों से लैस इस डेयरी फार्म का पूरा जिम्मा मशीनों के सिर पर होगा. केंद्र सरकार के पशुपालन मंत्रालय द्वारा हिमाचल प्रदेश को सेंटर ऑफ एक्सीलेंस डेयरी फार्म कम ट्रेनिंग सेंटर के रूप में यह संस्थान दिया गया है. 10 एकड़ के क्षेत्रफल में स्थापित होने वाले इस डेयरी फार्म में 300 हाइब्रिड देसी गायों को रखने का प्लान बनाया जा रहा है.

यह प्रोजेक्ट 44 करोड़ रुपये की लागत से तैयार किया जाएगा. जिसमें केंद्रीय पशुपालन मंत्रालय द्वारा हिमाचल प्रदेश को 38 करोड़ रुपए जारी कर दी गई हैं, जबकि शेष राशि हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा जारी की जाएगी. इसी बजट में डेयरी फार्म का स्ट्रक्चर बनाने के साथ-साथ रोबोट की खरीददारी की जाएगी. करीब 10 हेक्टेयर भूमि में बनने वाले इस डेयरी फार्म के लिए भूमि का चयन कर लिया गया है और भूमि स्थानांतरण की प्रक्रिया चल रही यही.

प्रदेश का का पहला हाईटेक फार्म

यह डेयरी फार्म प्रदेश में अपनी तरह का पहला हाईटेक फार्म होगा. इसके साथ जहाँ पर पशुपालकों, विशेषज्ञों और चिकित्सकों को ट्रेनिंग देने के लिए भी विशेष प्रशिक्षण संस्थान बनाया जाएगा. इस फार्म में करीब 300 देसी हाई ब्रीड गायों को रखा जाएगा. इनमें रेड सिंधि, थारपार्कर, साहिवाल, गिर और कोकरेंज गाय शामिल होंगी.

हाईटेक तकनीक से लैस इस डेयरी फार्म और ट्रेनिंग सेंटर का काम होने की संभावना है. पशुपालन विभाग के अधिकारी वर्तमान में भूमि हस्तांतरण के काम को प्राथमिकता के आधार पर निपटाने में लगे हैं. पशुपालन विभाग के उपनिदेशक डॉ. जेएस सेन का कहना है कि जमीन पशुपालन विभाग के नाम होते ही विभाग द्वारा डेयरी फार्म और ट्रेनिंग सेंटर का कार्य पूरा किया जाएगा. उसके साथ अन्य कार्य को अमलीजामा पहनाया जाएगा.

पढ़ें हिंदी समाचार ऑनलाइन और देखें लाइव टीवी न्यूज़18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी हिन्दी में समाचार.

Previous article‘Rahul Dravid और Ravi Shastri की टीम के बीच मुकाबला’, श्रीलंका पर जीत के बाद उठी मांग india-vs-sri-lanka-rahul-dravid-and ravi shastri team match fans asked– News18 Hindi
Next articleनंदिनी में खाली जमीन पर बनेगा 885 एकड़ में 80,000 से ज्यादा पौधे, 2500 एकड़ में फैला होगा पूरा जंगल | 2500 एकड़ में होगा कल्याण, 885 एकड़ में लगेंगे 80 हजार से ज्यादा पौधे, 3 साल में लगेंगे 3 करोड़ रुपये

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here