Home Madhya Pradesh इंदौर के शेल्बी अस्पताल से चोरी किए गए 133 रेमेडेक्वायर इंजेक्शन, फार्मेसी...

इंदौर के शेल्बी अस्पताल से चोरी किए गए 133 रेमेडेक्वायर इंजेक्शन, फार्मेसी कर्मचारी को हिरासत में

238
0

रेमेडियल इंजेक्शन इंदौर के एक निजी अस्पताल से चुराया गया था।  (टोकन फोटो)

रेमेडियल इंजेक्शन इंदौर के एक निजी अस्पताल से चुराया गया था। (टोकन फोटो)

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के बाद अब इंदौर में रेमेडियल इंजेक्शन चोरी होने का मामला सामने आया है। यहां शेल्बी अस्पताल से 133 इंजेक्शन चोरी हो गए हैं। अस्पताल प्रशासन ने फार्मेसी कर्मचारियों पर आरोप लगाया है और चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराई है।

इंदौर मध्य प्रदेश में, रेमेडी सेवर इंजेक्शन की कालाबाजारी कम नहीं हो रही है। नया मामला इंदौर के शेल्बी अस्पताल में इंजेक्शन चोरी का है। अस्पताल प्रशासन ने फार्मेसी कर्मचारी के खिलाफ चोरी की रिपोर्ट दर्ज कराई है। उस पर 133 इंजेक्शन चुराने का आरोप है। पुलिस ने उसे भी मंगलवार रात हिरासत में ले लिया। समूह में शामिल चार अन्य कर्मचारियों की भूमिका भी संदेह में है।

टेकनगंज थाना प्रभारी कमलेश शर्मा के अनुसार, भांड जिला के अचलपुरा निवासी अनूप जनक सिंह चौहान की शिकायत पर भूपिंदर शालीवाल के खिलाफ चोरी का मामला दर्ज किया गया है। अनूप ने पुलिस को बताया कि आरोपी अस्पताल के फार्मेसी विभाग में काम करता है। उन्होंने अपने साथियों के साथ मिलकर रिमाडसवीर के 133 इंजेक्शन चुरा लिए। और बाजार में बिताया। चुराई गई सुई का मूल्य 1,76,582 रुपये बताया गया है। थाना प्रभारी के अनुसार, भूपिंदर और चार अन्य, जो फार्मेसी विभाग में काम करते हैं, घोटाले में शामिल हो सकते हैं। पुलिस रिकॉर्ड, फुटेज और ड्यूटी चार्ट को कॉल करके जांच कर रही है।

भोपाल में पुलिस ने सुई को ब्लैकमेल करते हुए एक को गिरफ्तार भी किया

यहां की राजधानी भोपाल में सरकार की नाक के नीचे जीवन रक्षक रामदिवायर इंजेक्शन की कालाबाजारी चल रही है। पुलिस ने तब एक युवक को गिरफ्तार किया और उसके पास से तीन इंजेक्शन बरामद किए। आरोपी ने 30,000 रुपये में 30 इंजेक्शन खरीदे थे और उन्हें 90,000 रुपये में बेच रहा था। एक लड़का मसरोड़ पुलिस स्टेशन के पास निर्मल प्रेम अस्पताल के सामने खड़ा था। मुखबिर के अनुसार, थाना प्रभारी मसरुड़ नरंजन शर्मा अपनी टीम के साथ घटनास्थल पर पहुंचे और टीम ने इलाके की घेराबंदी की और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। उसकी पहचान रिट घाट के रहने वाले यासिर खान के रूप में हुई है। उसने तीन इंजेक्शन लिए। वह पूछताछ में इंजेक्शन से संबंधित कोई दस्तावेज नहीं दिखा सका।




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here