Home Chhattisgarh कोरोनावायरस टीकाकरण, छत्तीसगढ़; बमतारा में अस्पताल की नर्सें गुस्से में टीकों...

कोरोनावायरस टीकाकरण, छत्तीसगढ़; बमतारा में अस्पताल की नर्सें गुस्से में टीकों से भरा डिब्बा फेंककर आपस में भिड़ गईं और लोग टीकाकरण के लिए घंटों इंतजार करते रहे। 120 में से 60 को टीका नहीं लगाया गया था

36
0

बीमा43 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
दोनों के बीच विवाद कई दिनों तक चला।  - दिनक भास्कर

दोनों के बीच विवाद कई दिनों तक चला।

छत्तीसगढ़ के बर्टारा में टीके लगवाने वाली दो नर्सों के बीच एक स्टोररूम की चाबी को लेकर आपस में भिड़ंत हो गई। दोनों चाबियां एक-दूसरे के करीब होने को लेकर बहस करती रहती हैं। इस वजह से लोगों को वैक्सीन के लिए घंटों इंतजार करना पड़ता है। दोनों के बीच विवाद इतना बढ़ गया कि एक नर्स ने वैक्सीन से भरा डिब्बा जमीन पर फेंक दिया। हंगामे के कारण टीकाकरण देर से शुरू हुआ और टीकाकरण के लिए आए 120 लोगों में से 60 को बिना टीका लगाए ही लौटना पड़ा. मामला नवागढ़ प्रखंड की सबसे बड़ी ग्राम पंचायत शासकीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र का है. अब इस सारे हंगामे का वीडियो भी वायरल हो रहा है.

नर्स ने कहा- वैक्सीन का पता नहीं
लोग सोमवार सुबह नौ बजे कोरोना की वैक्सीन लेने पहुंचे। लेकिन लंबे समय बाद भी टीकाकरण शुरू नहीं हुआ है। फिर एक शख्स ने नर्स से पूछा कि वैक्सीन क्यों नहीं दी जा रही है. नर्स दिलीशोरी जोशी ने कहा कि उसके पास स्टोररूम की चाबी नहीं है। साथ ही उसे यह भी नहीं पता होता है कि वैक्सीन कहां है।

लड़ाई वहीं शुरू हुई जहां स्टोररूम की चाबी थी।

लड़ाई वहीं शुरू हुई जहां स्टोररूम की चाबी थी।

पीएचसी प्रभारी से की शिकायत
यह सब सुनकर उस व्यक्ति ने इसकी शिकायत पीएचसी प्रभारी डॉ. प्रकाश नाराम से की। इसके तुरंत प्रभारी। उन्होंने एक अन्य नर्स हेल्माता गायकवाड़ को स्वास्थ्य केंद्र बुलाया। हेमलता जैसे ही अस्पताल पहुंची तो वहां मौजूद दिलशोरी जोशी से उसकी बहस होने लगी। चाबी को लेकर दोनों में तीखी नोकझोंक हुई। बात इतनी बढ़ गई कि हेमलता ने टीकों से भरा एक डिब्बा जमीन पर फेंक दिया। हालांकि वैक्सीन को कुछ नहीं हुआ है। घंटों तक यह सब चलता रहा और आखिरकार सुबह 2 बजे मामला सुलझ गया। इसके लोगों को टीका लगाया गया है। जिसमें 60 लोगों को ही टीका लगाया गया है।

पीएचसी प्रभारी डॉ. प्रकाश नाराम भी दोनों को समझाने पहुंचे।  फिर भी लड़ाई जारी रही।

पीएचसी प्रभारी डॉ. प्रकाश नारम भी दोनों को समझाने पहुंचे। फिर भी लड़ाई जारी रही।

बीएमओ ने कहा- पूरी जानकारी लूंगा
अब पूरे मामले की शिकायत उच्चाधिकारियों से की गई है। नवागढ़ बीएमओ ने एक बयान में कहा कि उसे टेमरी स्वास्थ्य केंद्र में हुए दंगे और टीकों को जमीन में फेंकने की सूचना मिली थी. मैं टेमारी जाऊंगा और इस मामले की पूरी जानकारी लूंगा।

और भी खबरें हैं…
Previous articleहिमेश रेशमिया और विशाल ददलानी ने सा रे गा मा पा के लिए जज के रूप में वापसी की, ऑनलाइन ऑडिशन पूरी ताकत से शुरू: बॉलीवुड समाचार
Next articleपोर्नोग्राफी मामले में ‘गांधी बात’ की एक्ट्रेस गहना वाष्ट ने किया बड़ा खुलासा, कहा- ‘कई बड़े लोग शामिल हैं’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here