Home Sports गेंदबाजी एक्शन का वर्ल्ड कप लोगो में हुआ इस्तेमाल, पाकिस्तान का दिग्गज...

गेंदबाजी एक्शन का वर्ल्ड कप लोगो में हुआ इस्तेमाल, पाकिस्तान का दिग्गज बल्लेबाज खाता था खौफ-Former Indian Pacer Turned 45 today 1999 World Cup logo was inspired by his bowling action– News18 Hindi

199
0

नई दिल्ली. किसी के गेंदबाजी एक्शन का अगर वर्ल्ड कप के लोगो के रूप में इस्तेमाल किया जाए, तो ये बड़े सम्मान की बात है और ऐसा किसी भारतीय गेंदबाज के साथ हुआ हो, तो यह और भी खास हो जाता है. हम बात करें पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज देबाशीष मोहंती (Debasis Mohanty) की. जो ओडिशा की तरफ से घरेलू क्रिकेट खेलते थे और आजकल बीसीसीआई की सीनियर सेलेक्शन कमेटी (BCCI Senior Selection Committee) के सदस्य हैं. देबाशीष 1976 में आज ही के दिन भुवनेश्वर में पैदा हुए थे.

मोहंती के लिए ओडिशा जैसी कमजोर टीम (Odisha Cricket Team) की तरफ से खेलते हुए राष्ट्रीय टीम में जगह बनाना आसान नहीं था. लेकिन उन्होंने अपनी काबिलियत के दम पर इस मुकाम को हासिल किया. यह अलग बात है कि बेहतरीन स्विंग गेंदबाज होने के बावजूद वो भारत के लिए सिर्फ 4 साल ही अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेल पाए.

मोहंती के एक्शन का वर्ल्ड कप लोगो में इस्तेमाल हुआ
देबाशीष 1999 में इंग्लैंड में हुए विश्व कप में खेले थे. तब जवागल श्रीनाथ (Javagal Srinath) के बाद वो भारत की तरफ से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले दूसरे गेंदबाज थे. दिलचस्प बात यह है कि उन्हें आखिरी समय पर विश्व कप की टीम में जगह मिली थी. इसके बावजूद उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया और अपनी स्विंग गेंदबाजी से दिग्गज बल्लेबाजों को काफी परेशान किया था. तब उनके गेंदबाजी एक्शन का विश्व कप के लोगो के रूप में इस्तेमाल किया गया था.

मोहंती ने श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था
मोहंती पर सबसे पहले नजर पूर्व भारतीय ओपनर के. श्रीकांत की पड़ी थी. वो एक दौरे पर इंडिया-ए के कोच थे और उन्होंने तब मोहंती को सीनियर टीम में लेने की वकालत की थी. उन्होंने अगस्त 1997 में श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था और मैच की पहली पारी में 4 विकेट लेकर सेलेक्टर्स के इस फैसले को सही साबित किया.

अच्छे प्रदर्शन के बावजूद मोहंती को दूसरा टेस्ट खेलने के लिए तीन महीने का इंतजार करना पड़ा और यही उनके करियर का आखिरी टेस्ट भी साबित हुआ. उन्होंने यह टेस्ट श्रीलंका के खिलाफ मोहाली में खेला था. इस मैच में उन्हें विकेट नहीं मिले थे. इसके बाद उन्हें टीम से ड्रॉप कर दिया गया और फिर कभी उनकी टेस्ट टीम में वापसी नहीं हुई.

तेज गेंदबाज के तौर पर शुरू किया करियर, अब बतौर स्पिनर नंबर-1 तक पहुंचे

मोहंती से खौफ खाते थे सईद अनवर
वनडे में मोहंती का प्रदर्शन जरूर अच्छा रहा. उन्होंने 45 मैच में 57 विकेट लिए. 1999 विश्व कप में केन्या के खिलाफ 56 रन देकर चार विकेट उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा. उन्होंने 1997 में पाकिस्तान के खिलाफ कनाडा में हुए सहारा कप में वनडे डेब्यू किया था. इस सीरीज के 6 मैच में उन्होंने 8 विकेट लिए थे. उस सीरीज में मोहंती ने पाकिस्तान के दिग्गज बल्लेबाज सईद अनवर(Saeed Anwar) को तीन बार आउट किया था. अनवर ने खुद एक बार सचिन तेंदुलकर के सामने यह बात मानी थी कि देबाशीष को खेलना लगभग नामुमकिन है.

On This Day: क्रिकेट को 121 साल पहले मिला था नया ‘हथियार’, लोगों ने देखी गुगली गेंद

मोहंती ने 1999 विश्व कप में 10 विकेट लिए थे
मोहंती ने 1999 के विश्व कप में 6 मैच में 10 विकेट लिए थे. हालांकि, इस टूर्नामेंट के बाद उन्हें बहुत ज्यादा मौके नहीं मिले और उन्होंने 2001 में अपना आखिरी वनडे खेला. उन्होंने 21 की उम्र में भारत के लिए डेब्यू किया और 25 साल में आखिरी मैच खेला. वो 2011 में ओडिशा की रणजी टीम के कोच बनाए गए थे. उनके कोच रहते ईस्ट जोन ने पहली बार दिलीप ट्रॉफी जीती थी. उन्होंने 117 फर्स्ट क्लास में 417 विकेट हासिल किए.

पढ़ें हिंदी समाचार ऑनलाइन और देखें लाइव टीवी न्यूज18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी हिन्दी में समाचार.

Previous articleमार्शल आर्ट्स न्यूज 18 में जोधपुर के 3 भाई-बहनों ने पाकिस्तान में गंवाया गोल्ड मेडल
Next articleईद-उल-अजहा के मौके पर लोगों से घर में नमाज अदा करने को कहा, मना किया जानवरों की कुर्बानी न करने की हिदायत | ईद-उल-अजहा के मौके पर लोगों से घर में ही नमाज अदा करने को कहा गया, न कि निषिद्ध जानवरों की कुर्बानी देने को।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here