Home Chhattisgarh छत्तीसगढ़ का मौसम: कोरबा में बिजली गिरने से दो की मौत ...

छत्तीसगढ़ का मौसम: कोरबा में बिजली गिरने से दो की मौत दोनों खेत में काम करने गए थे। जब मौसम बदला, तो वे बारिश से बचने के लिए एक पेड़ के नीचे खड़े हो गए।

223
0

विज्ञापनों के साथ फेड। विज्ञापनों के बिना समाचार के लिए डायनाक भास्कर ऐप इंस्टॉल करें

मेज़बानएक घंटे पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना

रविवार सुबह छत्तीसगढ़ के कोरबा में बिजली गिरने से दो लोगों की मौत हो गई। दोनों एक ग्रामीण खेत पर काम करने गए थे। उस क्षण, एक तेज हवा बहने लगी। दोनों बचने के लिए एक पेड़ के नीचे खड़े हो गए। सूचना मिलने पर पुलिस ने शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है। मामला जियांग पुलिस स्टेशन के क्षेत्र की चिंता करता है।

रविवार की सुबह, 30 वर्षीय कन्हैया राठिया और 31 वर्षीय टीका राम अगरिया कथित तौर पर चेरा जिले के वनांचल के सुदूर गांव में एक खेत में काम करने गए थे। इस बीच सुबह करीब 10.30 बजे अचानक मौसम बदलने लगा और हल्की बारिश शुरू हो गई। इससे बचने के लिए वे दोनों एक पेड़ के नीचे खड़े हो गए।

ग्रामीणों ने परिजनों को घटना की जानकारी दी

तेज हवा के साथ बिजली चमकी। बिजली गिरने से पेड़ टूट गया और वे दोनों उसमें गिर गए। जिसके कारण उसने मौके पर ही दम तोड़ दिया। कुछ समय बाद, जब मौसम शांत हुआ, तो अन्य ग्रामीणों को इस घटना के बारे में पता चला। फिर उसने परिवार और पुलिस को सूचित किया। फिलहाल पुलिस कार्रवाई कर रही है।

मौसम विभाग ने गरज और बारिश की संभावना जताई है
राज्य में गर्मी के बावजूद कई दिनों से मौसम में बदलाव आया है। राज्य के विभिन्न स्थानों पर आंधी और बारिश जारी है। इसकी वजह से तापमान में भी अंतर देखा जा रहा है। मौसम विज्ञानियों ने अगले एक-दो दिनों तक राज्य में सामान्य मौसम रहने का अनुमान जताया है। रविवार को भी कई स्थानों पर गरज-चमक और बारिश की चेतावनी दी गई थी।

भास्कर ज्ञान: बिजली 300,000 किमी प्रति घंटे की गति से पृथ्वी पर हमला करती है। इससे बचने के 6 तरीके

बिजली गिरने की स्थिति में क्या करें?

  • यदि सिर पर बाल खड़े हैं या बाहर गिर रहे हैं, तो तुरंत बैठ जाएं और अपने कान बंद कर लें। यह एक संकेत है कि बिजली आपके चारों ओर है।
  • तुम जहां भी रहते हो हो सके तो अपने पैरों के नीचे सूखी वस्तुएं रखें, जैसे लकड़ी, प्लास्टिक, बोरे या सूखे पत्ते।
  • दोनों पैरों को एक साथ रखें, दोनों हाथों को अपने घुटनों पर रखें और जितना हो सके अपने सिर को जमीन की तरफ झुकाएं। सिर को जमीन पर न टिकने दें। धरती पर कभी झूठ मत बोलो।
  • बिजली के उपकरणों से दूर रहें, तार वाले टेलीफोन का उपयोग न करें। खिड़कियां, दरवाजे, बरामदे और छत से दूर रहें।
  • पेड़ बिजली को आकर्षित करते हैं, इसलिए पेड़ों के नीचे खड़े न हों। अलग-अलग, एक समूह में खड़े न हों।
  • यदि आप बाहर हैं तो धातु की वस्तुओं का उपयोग न करें। मोटरसाइकिल, बिजली के खंभे या मशीनों से दूर रहें।

बिजली क्यों टकराती है?
वायु शक्ति विद्युत का एक पदार्थ है। यह तब होता है जब बादल में हल्के कण ऊपर उठते हैं और सकारात्मक चार्ज में आते हैं। भारी कण तल पर जमा हो जाते हैं और नकारात्मक रूप से आवेशित हो जाते हैं। जब सकारात्मक और नकारात्मक चार्ज बढ़ते हैं, तो इस क्षेत्र में बिजली उत्सर्जित होती है। अधिकांश बिजली बादलों में उत्पन्न होती है और वहीं समाप्त हो जाती है, लेकिन कभी-कभी यह जमीन पर भी गिर जाती है। लाइटनिंग में लाखों वोल्ट ऊर्जा होती है। तेज गर्मी के कारण बिजली में तेज हवा चल रही है। 300,000 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से आसमान से बिजली गिरती है।

और भी खबर है …
Previous articleलता मंगेशकर ने 1 मिलियन रुपये का दान दिया। कोव 19 के लिए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री राहत कोष में 7 लाख: बॉलीवुड समाचार
Next articleराजस्थान प्री-टीचर एजुकेशन टेस्ट 2021 स्थगित, जानें विवरण

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here