Home Chhattisgarh नौकरी धोखाधड़ी यूथ कांग्रेस के प्रदेश सचिव जुल्फिकार व अन्य के...

नौकरी धोखाधड़ी यूथ कांग्रेस के प्रदेश सचिव जुल्फिकार व अन्य के खिलाफ मामला दर्ज खुरसीपुर पुलिस ने जांच के बाद मामला दर्ज किया, युवा कांग्रेस के प्रदेश सचिव जुल्फिकार ने भी रोजगार के नाम पर पैसे लेने का मामला दर्ज किया.

143
0

भलाई24 मिनट पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
पुलिस ने इनके खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।  - दिनक भास्कर

पुलिस ने इनके खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।

भलाई में युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव मोहम्मद शाहिद व प्रदेश सचिव जुल्फिकार के खिलाफ खुरसीपुर थाने में नौकरी दिलाने के नाम पर पैसे लेने की शिकायत दर्ज कराई गई थी. जिसके बाद पुलिस ने इनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।
खुरसीपुर थाना प्रभारी दरगीश शर्मा ने बताया कि मामले की जांच के बाद धारा 420 व 34 के तहत मामला दर्ज कर लिया गया है. अब आगे की कार्रवाई की जाएगी। वहीं, यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव मोहम्मद शाहिद ने रविवार को कहा कि यह एक राजनीतिक साजिश है. मेरे अच्छे काम को देखकर कुछ लोग मुझे बदनाम करने की कोशिश करते हैं। कर रहे हैं मानहानि का मुकदमा करूंगा।
भाजयुमो के प्रदेश अध्यक्ष ने की कार्रवाई की मांग
भाजयुमो के प्रदेश अध्यक्ष अमित साहू ने मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की। पूर्व विधायक देवजी भाई पटेल ने भी ट्वीट कर कहा कि मामला गंभीर है। इसकी जांच होनी चाहिए। वहीं, यूथ कांग्रेस के प्रवक्ता सुबोध हरितवाल का कहना है कि इसका राजनीतिक वजन से कोई लेना-देना नहीं है. पुलिस जांच कर रही है, सच्चाई सामने आ जाएगी।
2016 का मामला
भलाई के खुरसीपुर निवासी संतोषी पारा कैंप के अश्विनी कुमार कोशल और भूपिंदर कुमार देवांगन ने पुलिस में शिकायत की है कि कांग्रेस नेता मुहम्मद शाहिद और जुल्फिकार ने 2016 में रोजगार के नाम पर 535,000 रुपये लिए थे. चार साल बाद भी मुझे नौकरी नहीं मिल रही है। सीजी व्यापमं ने छात्रावास अधीक्षक पद के लिए आवेदन करने के नाम पर पैसे लिए थे। नौकरी नहीं मिलने के कारण पीड़ित लगातार रिफंड की मांग कर रहे थे। लेकिन पैसे वापस मत करो। पुलिस प्रशासन से मामले की निष्पक्ष जांच कर कार्रवाई करने को कहा गया है।

और भी खबरें हैं…
Previous articleअब लालकों से अमृतसर के लिए साप्ताहिक ट्रेन 10 जुलाई से चलेगी NODBK – News18 Hindi
Next articleम्यांमार सरकार ने दूरसंचार कंपनियों को हस्तक्षेप करने के लिए मजबूर करने के बाद अधिकारियों पर प्रतिबंध लगाया | विश्व समाचार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here