Home Uttar Pradesh बनारस में गटर का पानी हरे पानी और रसायनों के कारण हरा...

बनारस में गटर का पानी हरे पानी और रसायनों के कारण हरा है। तेजी से बढ़ रही शैवाल | बनारस में गटर का पानी हरे पानी और रसायनों के कारण हरा है। तेजी से बढ़ रही शैवाल

156
0

2 घंटे पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
जिला प्रदूषण नियंत्रण समिति ने डीएम को सौंपी रिपोर्ट  - दिनक भास्कर

जिला प्रदूषण नियंत्रण समिति ने डीएम को सौंपी रिपोर्ट

काशी में गंगा नदी का पानी हरा हो रहा है। इसका मुख्य कारण यह है कि इसमें प्रतिदिन 60 एमएलडी सीवेज का पानी गिरता है। गंदे पानी में कार्बनिक धातु होती है, जो शैवाल का पसंदीदा भोजन है। इसी वजह से गंगा का पानी लंबे समय तक हरा दिखता है। यह शैवाल जलीय जंतुओं के लिए खतरा हो सकता है। प्रदूषण नियंत्रण विभाग के मुताबिक जब तक भारी बारिश नहीं होगी तब तक गंगा में कोई बदलाव नहीं होगा.

उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की क्षेत्रीय अधिकारी कालिका सिंह ने कहा कि समिति को बनारस से मिर्जापुर तक गंगा के नमूने लेने का काम सौंपा गया है. शुक्रवार को जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंप दी गई है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के वैज्ञानिक अधिकारी डॉ. टीएन सिंह ने बताया कि अस्सी नाले से प्रतिदिन 50 एमएलडी गंदा पानी सीधे गंगा में गिरता है.

वहीं, घोरहा नाला से 10 एमएलडी पानी और रामनगर नाला से 10 एमएलडी पानी प्रतिदिन गंगा में गिर रहा है. वहीं, जांच में यह भी पाया गया कि मिर्जापुर में एक बायोलॉजिकल ऑक्सीजन प्लांट से अवांछित धातु गंगा में बह रही थी। इसमें मौजूद नाइट्रेट पानी की प्रकृति को बदल देता है।

वर्तमान में गंगा नाइट्रोजन और फास्फोरस से भरपूर है, जबकि नाइट्रोजन और फास्फोरस पानी में मौजूद नहीं होना चाहिए। इनकी मौजूदगी के कारण शैवाल तेजी से बढ़ रहे हैं, जिससे जलीय जंतु प्रभावित हो रहे हैं। सिंह ने कहा कि घुलित ऑक्सीजन और जैविक ऑक्सीजन की मांग असंगत है, जिसका असर पानी में दिख रहा है.

वर्तमान में पानी में ऑक्सीजन की मात्रा 8 मिलीग्राम . है

यदि एक लीटर पानी में 5 मिलीग्राम से कम ऑक्सीजन है, तो यह प्रयोग करने योग्य नहीं है। अभी यहां मात्रा 8mg के आसपास है, जो थोड़ी अधिक है। आवश्यक जैविक ऑक्सीजन की मात्रा तीन मिलीग्राम प्रति लीटर पानी से कम होनी चाहिए।

और भी खबरें हैं…
Previous articleपाकिस्तान सुपर लीग मैच में फील्डिंग के दौरान फाफ डु प्लेसिस घायल
Next articleदो माह बाद शाम सात बजे तक खुला बाजार, चारों तरफ लगा जाम, दो माह बाद शाम सात बजे तक खुला बाजार, चारों तरफ लगा जाम

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here