Home Chhattisgarh मुख्यमंत्री कन्या आवास योजना के तहत कोकोंडा में 30 जोड़ों ने शादी...

मुख्यमंत्री कन्या आवास योजना के तहत कोकोंडा में 30 जोड़ों ने शादी की, फिर टीकाकरण केंद्र जाकर कोरोना का टीका लगाया | मुख्यमंत्री कन्या वाहुआ योजना के तहत 30 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे, फिर पहुंचे कोरोना वैक्सीन टीकाकरण केंद्र

229
0

दानी वआ4 घंटे पहले

  • प्रतिरूप जोड़ना
नवविवाहिता ने पहले सात फेरे लिए, फिर नजदीकी टीकाकरण केंद्र में जाकर कोरोना का टीका लगवाया।  - दिनक भास्कर

नवविवाहिता ने पहले सात फेरे लिए, फिर नजदीकी टीकाकरण केंद्र में जाकर कोरोना का टीका लगवाया।

मुख्यमंत्री कन्या ववा योजना के तहत दंतवाड़ा जिले के कोकोंडा प्रखंड में सोमवार को 30 जोड़े परिणय सूत्र में बंधे. खास बात यह रही कि पहले नवविवाहिता व दुल्हन ने पहले सात फेरे लिए, फिर नजदीकी टीकाकरण केंद्र में जाकर कोरोना का टीका लगवाया। शादी समारोह के दौरान सभी ने मास्क पहन रखा था।

महिला एवं बाल विकास विभाग और पंचायत के सहयोग से सामिली में 13, पलनार में 7 और तकनपाल में 10 जोड़ों की शादियां संपन्न हुईं.

महिला एवं बाल विकास विभाग और पंचायत के सहयोग से सामिली में 13, पलनार में 7 और तकनपाल में 10 जोड़ों की शादियां संपन्न हुईं.

दरअसल, कोरोना के प्रभाव को देखते हुए इस बार प्रखंड मुख्यालय की जगह अलग-अलग गांवों में एक साथ कार्यक्रम हुए. गौरतलब है कि नवविवाहितों को शादी के बंधन में बंधते ही कोरोना का टीका भी लग गया था। ताकि कोरोना जैसी जानलेवा महामारी से नए जीवन की रक्षा हो सके। महिला एवं बाल विकास विभाग व पंचायत के सहयोग से स्माइली प्रखंड में 13, पलनार में 7 व तकनपाल में 10 जोड़ों का विवाह संपन्न हुआ.

दंतेवाड़ा जिला कार्यक्रम अधिकारी विजेंद्र सिंह ठाकुर ने बताया कि योजना के तहत विभिन्न गांवों के 30 जोड़ों का विवाह हो चुका है. पोलियो के खिलाफ टीके लगाए गए हैं ताकि अन्य लोगों को टीकाकरण के प्रति जागरूक किया जा सके। इस अवसर पर परियोजना प्रभारी बंडू सोवरणकर, सुजल सरकार, डॉ. वर्मा, शीलो यादव, स्कली मैडम आंगनबाडी कार्यकर्ता उपस्थित थे.

और भी खबरें हैं…
Previous articleअनिल कुंबले ने की आंध्र प्रदेश के सीएम वाईएस जगन मोहन रेड्डी से मुलाकात, खेल से जुड़े मुद्दों पर की चर्चा- News18 Hindi
Next articleजैशपुर में किसान ने की आत्महत्या : खेती नहीं कर पा रही इतनी आत्महत्याएं | बार-बार कहा कि खेत में पानी भर रहा है, फिर भी किसी ने नहीं सुना, चिंतित किसान ने फांसी लगा ली।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here