Home Himachal Pradesh हमीरपुर hpvk में कोरोना वायरस से मरने वाली मां और बेटे की...

हमीरपुर hpvk में कोरोना वायरस से मरने वाली मां और बेटे की मौत

220
0

हिमाचल में कोरोना वायरस.

हिमाचल में कोरोना वायरस.

Corona Death in Hamirpur: कोरोना से महिला की मौत के बाद शव का अंतिम संस्कार नहीं हो पाया था. अंतिम संस्कार के लिए कुनाह खड्ड के पास जगह को चिन्हित किया गया था, लेकिन नाल्टी और ब्राहलड़ी क्षेत्र के लोगों के विरोध किया. इस तरह महिला निर्मला देवी का शव 17 घंटे तक घर पर पड़ा रहा.

हमीरपुर. हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर (Hamirpur) जिले में नादौन (Naduan) में एक गांव में कोरोना (Corona Virus) ने मां और बेटे की जान ले ली. मां की अर्थी उठने के चंद घंटे बाद ही बेटे का भी जनाजा उठा. 32 साल का बेटा हाल ही में दिल्ली से लौटा था. इसके बाद उसकी मां की तबीयत खराब हुई और मौत हो गई. बाद में मां की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई.

जानकारी के अनुसार, विकास खंड नादौन की गलोड़ खास पंचायत का यह मामला है. गुर्याह गांव में मां की मौत के 24 घंटों के भीतर ही कोरोना संक्रमित बेटे ने भी दम तोड़ दिया. कोरोना संक्रमण ने इस पंचायत में दो दिन में तीन लोगों की जिंदगियां छीन ली. गुर्याह गांव की निर्मला देवी की 21 अप्रैल की रात को करोना से मौत हो गई थी. 22 अप्रैल रात को उसके नौजवान बेटे सुनील कुमार (32) की भी मौत हो गई.

मां के अंतिम संस्कार के दौरान बिगड़ी तबीयत
22 अप्रैल शाम पांच बजे घर से मां की अर्थी उठते ही बेटे की तबीयत ज्यादा बिगड़ गई. उसे एंबुलेंस में हमीरपुर लाया गया. यहां से नेरचौक रेफर कर दिया गया, जहां उसकी मौत हो गई. उसकी मां की मृत्यु के बाद लिए गए सैंपल में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई थी. गुरुवार को पंचायत के बुधवी गांव की महिला की भी कोरोना से मौत हो गई. गलोड़ खास पंचायत प्रधान संजीव शर्मा ने बताया कि इस बारे में एसडीएम नादौन से भी बात की है. युवक के शव का अंतिम संस्कार नगर पंचायत नादौन के श्मशानघाट में किया गया है.लोगों ने किया विरोध

गुर्याह गांव में कोरोना से महिला की मौत के बाद शव का अंतिम संस्कार नहीं हो पाया था. अंतिम संस्कार के लिए कुनाह खड्ड के पास जगह को चिन्हित किया गया था, लेकिन नाल्टी और ब्राहलड़ी क्षेत्र के लोगों के विरोध किया. इस तरह महिला निर्मला देवी का शव 17 घंटे तक घर पर पड़ा रहा. अंत में गुर्याह गांव की महिला के शव को पैतृक श्मशानघाट में संस्कार करने के लिए ले जाया गया और पैतृक गांव में महिला का अंतिम संस्कार किया गया.




LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here