Home Himachal Pradesh हिमाचल में कोरोना वायरस जोगिंदर नगर में मां-बाप की कोरोना से मौत...

हिमाचल में कोरोना वायरस जोगिंदर नगर में मां-बाप की कोरोना से मौत के बाद भाई-बहन अनाथ हो गए hpvk

98
0

जोगिंद्रनगर में प्रशासन के अधिकारी बच्चों से मुलाकात के दौरान.

जोगिंद्रनगर में प्रशासन के अधिकारी बच्चों से मुलाकात के दौरान.

Corona virus in Himachal: हिमाचल में अब तक कोरोना से सात बच्चे अनाथ हो गए हैं और उनके माता पिता का निधन हुआ है. सरकार इन बच्चों को 18 साल तक 2500 रुपये महीना आर्थिक सहायता प्रदान करेगी.

मंडी. हिमाचल प्रदेश में कोरोना (Corona) के कहर ने 16 और 9 साल के बच्चों के सिर से माता-पिता का साया छीन लिया. मां के निधन के बाद पिता का भी निधन हो गया और दोनों बच्चे अनाथ हो गए. मामला हिमाचल के मंडी (Mandi) जिले से है. जानकारी के अनुसार, जोगिंद्रनगर उपमंडल की पंचायत भडयाड़ा के गांव डकबगड़ा में कोविड-19 महामारी ने ऐसा कहर बरपाया कि 16 साल के बेटे और 9 वर्षीय बेटी से उनके मां-बाप को पलक झपकते ही छीन लिया. घर के बरामदे में बैठे इन बच्चों की नम आंखें अब यही कह रहीं हैं कि कहीं से उनके मां-बाप की बस एक झलक देखने को मिल जाएं. यह दुखद भरा मंजर देख यहां आने वाला हर कोई सिसक रहा है. उनकी बूढ़ी दादी को भी विश्वास नहीं हो रहा है कि महज चंद दिन पूर्व उनका परिवार भरापूरा महामारी की भेंट चढ़ गया. एसडीएम अमित मेहरा ने बच्चों से की मुलाकात एसडीएम जोगिंद्रनगर अमित मेहरा मंगलवार को इन बच्चों के घर भडयाड़ा के गांव डकबगड़ा पहुंचे और दोनों बच्चों 16 वर्षीय विशाल तथा 9 वर्षीय परी को ढांढस बंधाया. शोक संतप्त परिवार के प्रति अपनी संवेदनाएं प्रकट की. एसडीएम ने कहा कि इन बच्चों को प्रशासन व प्रदेश सरकार की ओर से हरसंभव मदद दिलवाई जाएगी और साथ ही सरकार की अनाथ बच्चों के लिए शुरू की गई फोस्टर केयर योजना के तहत इन्हें लाभान्वित करेंगे. अमित मेहरा ने कहा कि बच्चों के साथ-साथ परिवार के दूसरे लोगों का भी कोविड टैस्ट करवाया जाएगा.दंपति की कुछ दिन पहले कोरोना से हुई मौत बता दें कि इन बच्चों के माता-पिता 45 वर्षीय प्यार चंद तथा 36 वर्षीय सुनीता का कुछ दिन पहले निधन हो गया है. माता सुनीता देवी ने होम आइसोलेशन में ही दम तोड़ दिया था, जबकि पिता प्यार चंद की नेरचौक मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई थी. हिमाचल में अनाथ हुए सात बच्चे
हिमाचल में अब तक कोरोना से सात बच्चे अनाथ हो गए हैं और उनके माता पिता का निधन हुआ है. सरकार इन बच्चों को 18 साल तक 2500 रुपये महीना आर्थिक सहायता प्रदान करेगी.




Previous articleबर्थडे: जेठा लाल बनकर लोगों का दिल जीतने वाले दिलीप जोशी ने कई फिल्मों में किया काम, सलमान खान से खास संपर्क
Next articleआशा पारेख: “मैं हमारी छुट्टियों की उन तस्वीरों से बहुत परेशान थी। मुझसे ज्यादा वहीदा रहमान और हेलेन परेशान थीं”: बॉलीवुड समाचार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here